UPSC Civil Services Exam / यूपीएससी - सिविल सेवा परीक्षा


Sponsored Ads.

सिविल सेवा परीक्षा यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (संघ लोक सेवा आयोग - UPSC)
द्वारा आयोजित होने वाली बहूत ही लोकप्रिय परीक्षा है. भारत के बहुत से युवाओ का यह एक सपना होता है की वह सिविल सेवा परीक्षा पास करे और एक सिविल सेवक बने. संघ लोक सेवा आयोग यह परीक्षा हर साल आयोजित करता है और यह परीक्षा की प्रक्रिया अंदाजित सवा वर्ष तक चलती है. पहले यह परीक्षा हर साल मई महीने मे आयोजित की जाती थी लेकिन वर्ष 2013 से यह परीक्षा अगस्त महीने मे आयोजित की जाती है. जिसका विज्ञापन मई महीने मे
आयोग की वेबसाईट और रोजगार समाचार मे प्रसिद्ध किया जाता है.

सिविल सेवा परीक्षा कुल दो चरनो मे आयोजित की जाती है 1. प्रारंभिक परीक्षा जिसे प्री भी कहा जाता है और 2. मुख्य परीक्षा जिसमे व्यक्तित्व परिक्षण (इन्टरव्यु) भी सम्मिलित है.

प्रारंभिक परीक्षा:
यह परीक्षा मे वस्तुनिष्ठ प्रकार के दो प्रश्न पत्र होते है जिसमे बहुविकल्प प्रश्न होते है जिसमे से उम्मीदवार को सही विकल्प पसंद करना होता है.


इन दोनो प्रश्नो के 200-200 मतलब की कुल 400 मार्क्स होते है. दोनो प्रश्नपत्रो के प्रश्न पुस्तिका हिन्दी और अंग्रेजी इस तरह दोनो भाषा मे तैयार की जाती है. 

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा सिर्फ एक दरवाजा है, जो सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की और जाता है. स्पष्ट मतलब है की प्रारंभिक परीक्षा पास करने वाला उम्मीदवार ही सिविल सेवा मुख्य परीक्षा मे बैठ सकता है. प्रारंभिक परीक्षा के मार्क्स फाइनल मेरीट मे गिनती नही कीये जाते. इस तरह हम इसे एन्ट्रेन्स टेस्ट कह सकते है.

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की बात करे तो, इस परीक्षा मे कुल 9 प्रश्नपत्र होते है जिसमे से 7 प्रश्न पत्रो के मार्क्स ही मेरीट मे काउन्ट होते है. दो प्रश्न पत्र  1. भारतीय भाषा और 2. अंग्रेजी मेरीट के लिए काउन्ट नही होते.

Sponsored Ads.

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा:
प्रश्नपत्र A: भारतीय भाषा (संविधान की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित 18 भाषाओं में से उम्मीदवार को किसी एक भारतीय भाषा का चयन करना होगा) - 300 अंक
प्रश्नपत्र B: अंग्रेजी - 300 अंक
प्रश्नपत्र 1: निबंध - 250 अंक
प्रश्नपत्र 2: जनरल स्टडीज (1) - 250 अंक
प्रश्नपत्र 3: जनरल स्टडीज (2) - 250 अंक
प्रश्नपत्र 4: जनरल स्टडीज (3) - 250 अंक
प्रश्नपत्र 5: जनरल स्टडीज (4) - 250 अंक
प्रश्नपत्र 6: वैकल्पिक विषय - पेपर1 - 250 अंक
प्रश्नपत्र 7: वैकल्पिक विषय - पेपर2 - 250 अंक

कुल अंक: 1750 + व्यक्तित्व परीक्षण (साक्षात्कार) 275 अंक = कुल अंक 2025

वैकल्पिक विषय की सूचि (उम्मीदवार को इन विषय मे से किसी एक का चुनाव मुख्य परीक्षा के लिए करना अनिवार्य है)
  1. Agriculture
  2. Animal Husbandry and Veterinary Science
  3. Anthropology
  4. Botany
  5. Chemistry
  6. Civil Engineering
  7. Commerce and Accountancy
  8. Economics
  9. Electrical Engineering
  10. Geography
  11. Geology
  12. History
  13. Law
  14. Management
  15. Mathematics
  16. Mechanical Engineering
  17. Medical Science
  18. Philosophy
  19. Physics
  20. Political Science and International Relations
  21. Psychology
  22. Public Administration
  23. Sociology
  24. Statistics
  25. Zoology
  26. Literature of any one of the following languages:
इन विषयो के अलवा नीचे दी गइ भाषा मे से किसी एक का साहित्य भी विषय के तौर पर रखा जा सकता है.
Assamese, Bengali, Bodo, Dogri, Gujarati, Hindi, Kannada, Kashmiri, Konkani, Maithili, Malayalam, Manipuri, Marathi, Nepali, Oriya, Punjabi, Sanskrit, Santhali, Sindhi, Tamil, Telugu, Urdu and English.

उम्मीदवार को भाषा संबंधी प्रश्नपत्रों अर्थात् प्रश्नपत्र-I एवं प्रश्नपत्र-II को छोड़कर सभी प्रश्नप्रत्रों के उत्तर संविधान की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित किसी भी एक भाषा में या अंग्रेजी में देने का विकल्प होगा साथ ही उम्मीदवारों ने प्रधान परीक्षा के लिए किसी एक भारतीय भाषा को भाषा माध्यम के रूप में चुना है, उन्हें यह विकल्प होगा कि वे साक्षात्कार अंग्रेजी में या प्रधान परीक्षा के लिए चुनी गई भाषा में दे सकते हैं.

Sponsored Ads.